नवीन लेख
08:45

रघुवंशी समाज के गोत्र

वैबसाइट या लेखक नीचे दिये गोत्रों के रघुवंशी समाज के प्रामाणिक गोत्र होने का दावा नहीं करती ये केवल जानकारी के लिए दिये गए है क्रप्या अपने विवेक से काम ले ।

।जय सियाराम
—————–
रघुवंशी समाज के गौत्र
मप्र के रघुवंशी क्षत्रियों का मूल गौत्र कश्यप है। मप्र आने के बाद अपनी रक्तशुद्धता बनाये रखनें व वर्णशंकरता से बचने के लिये रघुवंशी क्षत्रियों ने १६ वी सदी में नये गौत्र बनाये। तथा रघुवंशियों ने रघुवंशियों में बैवाहिक संबंध शुरु किये। किन्हीं भी दो गौत्रो के बीच 21 पीढ़ियों का अंतर रखा गया था।
———————————-
रघुवंशी समाज के गौत्र
1- अरेले
2- अड़ेले
3- अदीगर
4- अरंज
5- करेले
6- कैरवार
7- कांद
8- कूच / कुंच
9- करकूदा
10- कंधौलिया / कंदौलिया
11- कंदौईया
12- करझरिया
13- करधोनिया
14- करंजिया
15- करोडिया
16- करैया/करहैया
17- कछोया
18- कैरया
19- कैरेला/केरेलका
20- खडिया ( खड़या)
21- गहोरिया (गभोरिया)
22- गंगोरिया
23- गोहिया (गौईया)
24- गौरिया
25- गंगेले
26- चनिया ( चन्हा / चनिहा)
27- छिरेंटिया
28- छहौरिया
29- छोरिया (छोड़िया)
30 – झरा
31- झिरवार
32- टटेरे
33- टॉमक
34- टटेरिया
35- डंडीर (डंडील)
36- डड़ील (डडील)
37- डोडिया (डोड़िया)
38- डींगर (दींगर)
39- डुडियार
40- तूरिया
41- तरवरिया
42- देवरानिया
43- धमधारिया (धमधेरिया)
44- नथेले (नखेले)
45- निधौनिया (निदोनिया)
46- नगदैया (नगधैया)
47- नींखर (नीकर)
48- पेरिया (पीरिया)
49- पलोरिया (पल्होरिया/पलोरया)
50- पचरैया (पचलैया)
51- पटेरिया
52- बड़कुर
53- बहोरिया
54- विलधैया (बलदैया/बलधैया)
55- विलधारिया
56- बिजोरिया
57- बम्होरिया ( वमोरिया)
58- बाघेरिया
59- वालेचा
60- वाडोर (वारोड/वाड़ेर)
61- वगदोरिया
62- बरखरिया (बरखेड़िया)
63- भौरसिया
64- मैयर (मेहर)
65- मैना
66- मिरधा
67- मिसोदिया (मसौदिया)
68- महोलिया
69- मगरानिया
70- मथनेरिया (मथमेरिया)
71 – मुडयार
72- रजोदिया (रिजोदिया)
73- रोनया (रोन्हया)
74- सुडियार (सुडियाड)
75- सिरोंजिया
76- सोलकिया
77- सौंडिया (सौडिया/सौंड़िया)
78- सौंधिया
79 – सौंगर
80- हरदिया
81- हाडा (हड़ा)
82- डंगिया (डंगहा)
83 – कश्यप
84 – वशिष्ट
—————————————————-
नोट:- वघेल, अत्रे, सोलंकी, शिवडे, हूड़, खत्री, टॉक, सांगा, सिसोदिया, सूर्या , रोहणे, सोसी, चिल्लउआ, मंगरूलवीर,सांडिल्या, जवास्या आदि गौत्र नागपुर महाराष्ट्र क्षेत्र के राघवी रघुवंशी समाज के गौत्र है । ये मप्र के रघुवंशियों से अलग है।

Copyright © All rights reserved: www.raghuwanshi.net | Site Developed by RDestWeb Solutions India

WP2Social Auto Publish Powered By : XYZScripts.com