रघुवंशी समाज के गोत्र

वैबसाइट या लेखक नीचे दिये गोत्रों के रघुवंशी समाज के प्रामाणिक गोत्र होने का दावा नहीं करती ये केवल जानकारी के लिए दिये गए है क्रप्या अपने विवेक से काम ले ।

।लव का राज्य सरयु के उत्तरी तट पर उत्तरी कोशल मे था जो अयोध्या से लगा है।उत्तरी कोशल मे यूपी के कुछ जिले आते है।लव का राज्य पाकिस्तान या अफगानिस्तान मे नही था।उत्तरी कौशल के राजा लव और दक्षिणी कौशल के राजा कुश थे।दोनो राज्य सरयु के दोनो और थे ।दोनो और के राज्यो के रघुवंशियो के कुल 84 गौत्र है जिनमे से 70 के नीचे दिये है इन 84 गौत्रो के अलावा 30 गौत्र और है ये रघुवंशी अयोध्या से गुप्तकाल के समय उत्तर प्रदेश के वारणसी जौनपुर डोभी जनपदो मे तथा बिहार चले गये थे।और जो रघुवंशी अयोध्या मे बचे थे वे औरंगजेब के समय अयोध्या से म.प्र. व महाराष्ट्र आ गये थे ।इस प्रकार यूपी बिहार म. प्र. महाराष्ट्र के रघुवंशी ही असली रघुवंशी क्षत्रिय है व राम के वंशज है

नीचे फोटो मे दिये गए गोत्र रघुवंशी समाज गुना की पत्रिका से लिए गए है

Copyright © All rights reserved: www.raghuwanshi.net | Site Developed by RDestWeb Solutions India

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com