About us

रघुवंशी समाज की इस वेबसाईट मे आपका स्‍वागत् है । इस वेबसाईट को आपके सामने प्रस्‍तुत करते हुए मुझे अत्‍यंत हर्ष की अनुभूति हो रही है । अपने विशाल समाज की स्थिति को देखते हुए कई दिनों से मन में एक ललक थी कि इस समाज को ऐसा मंच प्रदान किया जाए, जिसके माध्‍यम से रघुवंशी जाति के विषय में सम्‍पूर्ण विश्‍वसनीय जानकारियां एक ही स्‍थान पर उपलब्‍ध हो सके, जिससे रघुवंशी बंधु हमारे इस विशाल समाज को ओर अधिक निकटता से जान-पहचान सके । इन आधारभूत सामग्रीयों के साथ-साथ रघुवंशी जाति के धर्म, उसके इतिहास, परम्‍पराएँ, आन्‍दोलनरतता, संगठन क्षमता, ज्‍वलन्‍त समस्‍याएँ, उद्यमिता एवं एवं परिश्रमशीलता, इस जाति के महापुरुष, राष्‍ट्र निर्माण में योगदान करने वाली विभूतियाँ, क्रांतिकारी एवं स्‍वतंत्रता सेनानी एवं उन्‍मुखता की भावना से ओत-प्रोत अपने अर्जित ज्ञान और अनुभव को आप जैसे सुधी पाठकों के समक्ष प्रस्‍तुत करने का प्रयास किया गया है ।

वेबसाईट में सम्‍पूर्ण जानकारियां हिन्दी भाषा में उपलब्‍ध कराई जा रही है ताकि समाज के हर व्यक्ति के लिये पढ़ने एवं समझने में सहज हो सकें । इस वेबसाईट मे जो भी समाज के बारे मे जानकारियां दी जा रही है वो समाज के प्रतिष्ठित बुद्धिजीवी व्‍यक्तियों द्वारा लिखी गई समाज की पुरानी व नई किताबों के माध्‍यम से प्राप्त की गई है । इस वेबसाईट को बनाते समय जाति के अंतर्गत आने वाली सम्‍पूर्ण जानकारियों को पूरी निरपेक्षता से प्रदर्शित की गई है, फिर भी भूलवश कोई ऐसा प्रसंग आ गया हो, जिससे किसी की भावना को ठेस लगी हो, तो उसके लिए मैं क्षमाप्रार्थी हूँ । सुधी पाठको से एक और निवेदन है कि कहीं कोई असंगति नजर आए या भावार्थ स्‍पष्‍ट न हो अथवा कोई सुझाव व जानकारी देना चाहें, तो उसे अवश्‍य ध्‍यान में लाएँ, जिससे उसे सुधार कर दुरूस्‍त किया जा सके । आप हमें अपने विचार व मार्गदर्शन प्रदान करे । ताकि हम समाज के इस आधुनिक महायज्ञ को सफल बना सकें । इस वेबसाईट से सम्‍बंधि‍त सुझाव आप हमे Feedback Option के द्वारा हमे भेज सकते है। वेबसाईट के बारे मे अपने परिचितों को अवश्य बताये ताकि समाज के बारे मे जारकारी अधिक से अधिक रघुवंशी बंधुओं तक पहुच सकें ।

यह कार्य एक छोटी-सी रूप रेखा बनाकर मैंने प्रारम्‍भ किया था जो बाद में बढ़ता ही चला गया । अगर इस वेबसाईट को बनाने से पहले ही मेरे मस्तिष्‍क में यह कल्‍पना उठ जाती की यह कार्य इतना बड़ा और कठिन हो जायेगा, तो शायद मैं इस कार्य को करने की हिम्‍मत ही नहीं कर पाता । इस कार्य को करने में मुझे कल्‍पना से भी ज्‍यादा सहयोग मिलता रहा और मेरी हिम्‍मत बढ़ती गई । रघुवंशी जाति के विषय में जानकारी रखने वाले महानुभावों से मैने फोन के माध्‍यम से सम्‍पर्क किया और रौचक बात यह है कि इस कार्य के लिए मै किसी व्‍यक्ति से व्‍यक्तिगत रूप से नहीं मिला मुझे पुरा सहयोग फोन के माध्‍यम से ही मिल गया । सभी ने मुझे डाक के माध्‍यम से सम्‍पूर्ण पुस्‍तके मेरे घर पर ही उपलब्‍ध करवा दी ।

मैं उन लेखकों का आभारी हूँ, जिनकी पुस्‍तकों से संदर्भ सामग्री इस वेबसाईट में प्रयुक्‍त की गई है विषय की प्रमाणिकता और प्रभावोत्‍पादकता की दृष्टि से जिन विद्वानों के लेखों को सम्‍पादित रूप में समाविष्‍ट किया गया है उनके प्रति विशेष कृतज्ञता ज्ञापित करता हूँ ओर आशा करता हूँ कि उनका आशिर्वाद हमेशा मुझ पर बना रहेगा । मैं इसके लिए श्री रामकुमार रघुवंशी, सिलवानी जिला-रायसेन एवं, और भी वे महानुभाव जिनका मुझे प्रत्‍यक्ष एवम् अप्रत्‍यक्ष रूप से इस वेबसाईट के निर्माण में सहयोग मिला है मैं सभी सहयोगियों का आभारी हूँ व सभी को धन्‍यवाद देना चाहता हूँ जिनके प्रत्‍यक्ष, अप्रत्‍यक्ष सहयोग के कारण यह कार्य सकुशल सम्‍पन्‍न हो पाया । मेरे परिवार में मेरे पति के पिता श्री उदेत सिंह रघुवंशी, श्रीमति मुन्नी देवी, भाई जितेंद्र सिंह रघुवंशी,एव मेरे जीवन साथी रवीद्र रघुवंशी के सहयोग के बिना यह अनुष्‍ठान कभी पूर्ण नहीं हो सकता था, मैं इन सबकी ऋणी हूँ ।

इस वेबसाईट के निर्माण में तकनीकि सहायता और निर्माण कार्य में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए RDestWeb Solutions India के श्री रवीकान्त उपाध्याय को विशेष धन्‍यवाद प्रस्‍तुत करती हुँ। क्‍योंकि इस वेबसाईट को आप तक पहुँचाने में इनका प्रचुर योगदान रहा है ।

रघुवंशी जाति का इतिहास, संस्‍कृति, परम्‍पराए, रीति-रिवाज़ आदि सभी गौरवशाली रहे हैं । इसलिए इस वेबसाईट को बनाने में मैने यह दृष्टिकोण अवश्‍य अपनाया है कि रघुवंशी जाति का इतिहास गौरवशाली बनें ।

मैं रघुवंशी समाज के सभी युवा साथियों से क्रांतिकारी अपील करना चाहती हूँ कि वो समाज के सर्वांगीण विकास के लिए आगे आये व समाज को संगठित कर, समाज के नये युग का सूत्रपात करें जिससे अपने समाज का भविष्‍य उज्‍जवल बन सके व आर्थिक, राजनैतिक, सामाजिक रूप से परिपक्‍व व आत्‍मनिर्भर बन सके ।

यह कार्य मैंने पूर्ण ईमानदारी के साथ किया है । वेबसाईट में हर तथ्‍य को पूर्ण तया सही टाईप करने का पूरा प्रयास किया गया है तथापि किसी भी प्रकार की मानवीय त्रुटि के लिए सम्‍पादक क्षमा प्रार्थी है ।

जाति के प्रति निष्‍ठा का भाव पेदा करना ही मेरा प्रमुख लक्ष्‍य है । समाज का इतिहास सदैव गौरवशाली रहा है आइये, हम कदम से कदम मिलाकर अपने समाज को इक्‍कीसवीं सदी में अधिक उन्‍नतशाली, सुदृढ़, प्रेरणामयी एवं गौरवशाली महान समाज निर्मित करने के लिए एक नव विश्‍वास के साथ अपना सामाजिक योगदान प्रदान करें ताकि हमारा समाज हमेशा अग्रणी रहे । धन्‍यवाद् …..!

www.raghuwanshishadi.com

रघुवंशी समाज की इस वेबसाईट को प्रारम्‍भ करने के बाद हमे बहुत सारे रघुवंशी बंधुओं ने अपने Feedback/Phone के माध्‍यम से Matrimonial Website को प्रारम्‍भ करने का आग्रह किया की इसके माध्‍यम से अविवाहित युवक/युवतियों को के विवाह सम्‍बंध स्‍थापित करने में बहुत मदद मिलेगी । इस गम्‍भीर और महत्‍वपूर्ण विषय को ध्‍यान में रखते हुए रघुवंशी समाज की वेबसाईट पर प्रारम्भ की इस वेबसाईट के द्वारा आप अपने मन-पसंद जीवन साथी की खोज कर सकते है । www.raghuwanshishadi.com पर अपना बायोडाटा आज ही रजिस्टर करें और टेक्नोलॉजी की मदद से अपना प्रोफाइल इछुक उमीदवारों तक पहुचाए । आपको मन-पसंद वर/वधु की प्राप्ती हो, इसी कामना के साथ ” एक सुखद विवाहित जीवन कि शुभकामनाएँ ” ।

सोनल रवीद्र रघुवंशी

Copyright © All rights reserved: www.raghuwanshi.net | Site Developed by RDestWeb Solutions India

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com